आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग पर सियासत शुरु

न्यूज डेस्क, नई दिल्ली || आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने के मामले पर अब सियासत शुरु हो गई है। जहां एक तरफ इस मामले में एनडीए में दरार पड़ गई वहीं मौके का फायदा उठाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बयान दिया है कि, अगर उनकी पार्टी सत्ता में आती है तो वो आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देगी। बता दें कि आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग ना पूरी होने पर केंद्र में बीजेपी को समर्थन दे रही टीडीपी के दो सांसदों अशोक गणपति राजू और वाईएस चौधरी ने अपने पद से इस्तीफा देने की बात कही। वहीं दूसरी तरफ आंध्र प्रदेश में चंद्रबाबू नायडू की टीडीपी को समर्थन कर रही बीजेपी के 2 मंत्रियों कामिनेनी श्रीनिवास और पायदिकोंडला मणिक्याला राव ने गुरुवार को इस्तीफा दे भी दिया।

इससे पहले टीडीपी प्रमुख और आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि, केंद्र सरकार ने आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने का वादा नहीं निभाया। नायडू ने कहा कि, हम सरकार का हिस्सा यह सोचकर बने थे कि मोदी सरकार आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देगी, लेकिन केंद्र ने प्रदेश के लोगों की चार साल की उम्मीद को तोड़ा है

वहीं इस मुद्दे पर टीडीपी सांसद राम मोहन नायडू ने कहा कि, राज्य और केंद्र सरकार के बीच बात हो रही है। साथ ही उन्होंने कहा कि, जब तक राहुल गांधी की सरकार सत्ता में नहीं आती तब तक क्या वो आंद्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने की मांग को लेकर हमारे लिए लड़ेंगे?’

बता दें कि आंध्र प्रदेश की टीडीपी सरकार आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग कर रही है। लेकिन बुधवार शाम केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बयान दिया कि, सरकार आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा नहीं दे सकती, स्पेशल पैकेज देने के लिए तैयार है। जिसके बाद साफ हो गया कि केंद्र सरकार टीडीपी की मांग को नाकार रही है, यही वजह है कि अब टीडीपी नाराज है और उसके मंत्री कैबिनेट से इस्तीफा देने की बात कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Updates |