मीडिया ज्वाइन करते ही आखिर क्यों सुर्खियों में आई ये पाकिस्तानी एंकर ?

न्यूज डेस्क, नई दिल्ली || इस खबर में टाइटल के नीचे हमने आपको एक तस्वीर दिखाई है। ये तस्वीर एक एंकर की है। आप सोच रहे होंगे कि आखिर इस खबर में ऐसा क्या है कि हम आज आपको इसके बारे में बता रहे हैं। ये एंकर भी तो दूसरी एंकर्स की तरह ही है। आपके दिमाग में इस तरह के ख्याल उठना पूरी तरह से लाजमी हैं। लेकिन हम आपको बताएंगे कि आखिर कैसे ये न्यूज एंकर दूसरी न्यूज एंकर्स से अलग हैं।

दरअसल ये न्यूज एंकर एक किन्नर हैं, जिनका नाम मारवीय मलिक है। इन्हे पाकिस्तान के एक टीवी चैनल कोहे-नूर ने अपने चैनल में एंकरिंग का मौका दिया है। जिसके बाद से पाकिस्तान के इस न्यूज चैनल की वाहवाही होने लगी है।

मारवीय मलिक ने जब एंकरिंग को लेकर अपना अनुभव साझा किया तो वो काफी भावुक हों गई थीं। यकीन मानिए जो मारवीय ने बताया उसे जानने के बाद कहीं ना कहीं आप भी जरूर भावुक हो जाएंगे। उन्होंने बताया कि, मैं लाहोर की रहने वाली हूं। जब मुझे पता चला कि कोहे-नूर चैनल रिलॉन्च हो रहा है तो मैंने भी दूसरों की तरह वहां पहुंच कर एंकरिंग के लिए ऑडिशन दिया। ऑडिशन के बाद चैनल वालों ने मुझे इंतजार करने के लिए कहा और जब सब का ऑडिशन हो गया तो मुझे फिर से एक बार अंदर बुलाया गया। अंदर मुझे बोला गया कि हम आपको ट्रेनिंग का मौका देंगे, आपका कोहे-नूर न्यूज में स्वागत है। मुझे ये जान कर काफी खुशी हुई। ये सुनकर मेरी आंखों में आंसू आ गए

 

मारवीय मलिक ने आगे बताया कि, मैं पाकिस्तान की पहली किन्नर मॉडल भी रह चुकि हूं, लेकिन जो ख्वाब मैने देखा था वो अब पूरा हुआ है। मुझे ट्रेनिंग के दौरान कोई दिक्कत नहीं आई। कभी भी मेरे साथ लैंगिक भेदभाव नहीं किया गया। जितना दूसरे एंकर्स को ट्रेनिंग दी जाती थी उतनी ही ट्रेनिंग मुझे भी दी जाती थी

 

मारवीय मलिक का कहना है कि वे अपने समुदाय के लोगों के लिए काफी कुछ करना चाहती हैं। मलिक कहती हैं कि, मैं चाहती हूं कि हमारे समाज के लोगों को भी मर्द और औरतों की तरह ही हक मिलने चाहिएं। हम भी चाहते हैं कि हम आम नागरिक कहलाएं ना कि थर्ड जेंडर। उन्होंने कहा कि, मुझे न्यूज एंकर की नौकरी मिली लेकिन इस ग्लैमर से अलग देखा जाए तो मुझमें और उन किन्नरों में फर्क नहीं जो सड़क पर भीख मांगती हैं और डांस करती हैं। इसमें बदलाव की जरूरत है

बता दें कि लाहौर की रहने वाली मारवीय मलिक ग्रेजुएट हैं और अब वो आगे मास्टर्स की पढ़ाई करना चाहती हैं। इतना ही नहीं वो लाहौर फैशन शो में हिस्सा भी ले चुकी हैं और बड़ी मॉडल्स के साथ शामिल होकर शो की स्टॉपर भी बनीं।

खबर को पढ़कर शायद आपके जहन में भी कुछ सवाल कौंध मचा रहे होंगे। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि हमरे जहन में भी कुछ सवाल उठे थे। जिनमें सबसे बड़ा सवाल यही था कि आखिर जब भी थर्ड जेंडर शब्द बोला जाता है तो क्यों लोगों के चहरे पर तंज जैसी हंसी दिखने लगती है? आखिर क्यों नजरें किसी एक पर जाकर टिक जाती हैं ? और क्या मारवीय मलिक की मेहनत के बारे में जानकर सड़कों पर  नकली किन्नर बनके भीख मांगने वाले कुछ लोग इससे सीख लेंगे ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Updates |