कूल लड़कियों के कूल डायलॉग लेकर आएगी ‘वीरे दी वेडिंग’

सुकृति गुप्ता, एंटरटेनमेंट डेस्क || ‘वेरे दी वेडिंग’, फिल्म के नाम से ही पता चल जाता है कि फिल्म वेडिंग यानि शादी को लेकर है। पर जब फिल्म का ट्रेलर देखते हैं तो पता चलता है कि फिल्म इससे आगे भी काफी कुछ कहती है। फिल्म के ट्रेलर में कई अच्छी बातें नजर आती हैं, तो गौर फरमाने पर कई खामियां भी दिख जाती हैं।

फिल्म की सबसे अच्छी बात यह है कि फिल्म नायक प्रधान न होकर नायिका प्रधान है। आम तौर पर बॉलिवुड में ऐसी कम ही फिल्में बनती हैं। फिल्म चार सहेलियों की जिंदगियों पर केंद्रित है, जो हाई सोसाईटी से ताल्लुक रखती हैं। फिल्म में शादी और रिश्तों के मायनों को हाई सोसाईटी की इन सहेलियों के नजरिए से पेश किया गया है। चार सहेलियों के किरदार में सोनम कपूर, स्वरा भासकर, करीना कपूर और शिखा तलसानिया हैं। फिल्म के निर्माताओं में भी दो औरतें रिया कपूर और एकता कपूर शामिल हैं। फिल्म का निर्देशन शशांक घोष ने किया है। वे ‘खूबसूरत’ फिल्म के भी निर्देशक रह चुके हैं, जो बहुत ज्यादा सफल नहीं रही थी।

आम तौर पर यह माना जाता है कि लड़कों में जितना भाई-भाई होता है, लड़कियों में उतना बहन-बहन नहीं होता। फिल्म का ट्रेलर इस बात को गलत साबित करता है। फिल्म के ट्रेलर में एक जगह लिखा आता है ‘फ्रेंड्स बी लाइक फैमिली’, यानि ‘दोस्त परिवार जैसे हों’। एक जगह अपने दोस्तों की बुराई सुनकर सोनम कहती हैं ‘आप प्लीज मेरे फ्रेंड्स के बारे में बकवास मत करो’।

यहां पर सोनम का बकवास मत करो कहना माईने रखता है, क्योंकि समाज लड़कियों के बारे में ऐसी बकवास करता रहा है। आज भी भागकर शादी करने वाली, तलाकशुदा और शादी से जी छुड़ाने वाली औरतों के बारे में बकवास ही की जाती हैं। शादी को आज भी लड़कियों के लिए सबसे अहम बात मानी जाती है। फिल्म के ट्रेलर में सोनम एक जगह इस सोच का विरोध करती दिखती हैं, जब वो बीए, एम.ए और मंगलसूत्र वाला डायलॉग बोलती हैं। यहां सोनम कुछ अच्छा कहती हैं पर साथ में बहन वाली गाली जोड़ देने से बात खराब हो जाती है। फिल्म में कई जगह ऐसे डायलॉग हैं जो रेप-कल्चर से निकले प्रतीत होते हैं। मसलन, शिखा तलसानिया का पात्र एक जगह कहता है ‘तेरी लेने के लिए अब डिग्री भी चाहिए!’ डायलॉग लिखने वाला शायद बहाना मारे कि ये कूल लड़कियों के कूल डायलॉग हैं, पर इतना भी क्या कूल होना कि गौर फरमाने वाला गर्म हो जाए।

बहरहाल, फिल्म वास्तव में कैसी है ? इसका पता एक जून को फिल्म रिलीज होने के साथ ही चलेगा। ट्रेलर को देखकर साफ लगता है कि शादी और रिश्तों पर हंसी ठिठोली की गई है। कहीं-कहीं इसको लेकर कुठाराघात भी किया गया है। पर लगता नहीं यह फिल्म ‘लिप्सटिक अंडर माय बुर्खा’ और ‘क्वीन’ जैसी फिल्मों की कैटेगरी में आ पाएगी।

खैर, शादियों के सीजन में रिलीज करने से फिल्म को कुछ फायदा ज़रूर होगा। सोनम की शादी की खबरों और ट्विटर पर फिल्म के विरोध की खबरों से ट्रेलर लॉन्च होने से पूर्व ही यह फिल्म चर्चा में आ गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Updates |