जवान औरंगजेब के पिता ने सरकार को कार्रवाई के लिए दी 72 घंटे की मोहलत

विभा कुमारी, नई दिल्ली || रमजान का पाक महीना जो इबादत का होता है। जिसमें दूसरों के लिए दुआ मांगी जाती है। इस माह में हिंसा से कोसों दूर रह जाता है। लेकिन इस पाक महीने में ईद से ठीक पहले आतंकवादियों ने कश्मीर की वादियों में खूनी खेल खेला। आतंकवादियों ने रमजान के महीने में ईद की छुट्टियां मनाने घर जा रहे जवान औरंगजेब को गुरुवार दोपहर को अगवाह किया और उसकी हत्या कर दी। जवाब शव देर रात गोलियों से छल्ली हालत में पुलवामा में मिला। आतंकियों की इस कायराना हरकत के बाद से गुस्से का माहौल है। सरकार की सुस्त कार्रवाई से नाराज औरंगजेब के पिता ने सरकार को 72 घण्टों का समय देते हुए कहा कि अगर सरकार जल्द कोई कार्रवाई नहीं करेगी तो खुद अपने बेटे की मौत बदला लेंगे

गौरतलब है कि कश्मीर राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने केंद्र सरकार के समर्थन से राज्य में रमजान के महीने में कोई भी सैन्य कार्रवाई नहीं करने की मांग की थी। सैनिकों से मुफ्ती ने कहा था कि सैनिक तभी हमला कर सकते हैं जब उन पर पहले हमला या गोली बारी होगी।

बता दें औरंगजेब का अपहरण तब हुआ था, जब वह ईद की छुट्टियां मनाने अपने घर जा रहे थे। घर जाते वक्त कलमपोर के मुगल रोड पर उन्हें आतंकवादियों ने तकरीबन 9 बजे अगवाह कर लिया था। औरंगजेब 44 राष्ट्रीय राइफल के साथ सोफिया में तैनाथ थे। इसी साल अप्रैल में पुलवामा में सुरक्षाबलों और पुलिस ने संयुक्त ऑपरेशन चलाया था, जिसमें दो आतंकवादी मारे गए थे। मरने वालों में हिजबुल मुजाहिदीन का टॉप कमांडर टाइगर भी शामिल था। इस ऑपरेशन में मेजर शुक्ला के साथ औरंगजेब भी शामिल थे।

औरंगजेब की इस दर्दनाक हत्या पर देशवासियों का गुस्सा फुट पड़ा। इस संदर्भ में पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद कैफ सहित कई लोगों ने ट्विटर पर अपनी प्रतिक्रिया दी। कैफ ने प्रतिक्रिया देते हुए ट्विटर पर लिखा ‘हम भारतीय सेना के जवान औरंगजेब के बलिदान को कभी नहीं भूलेंगे। जिनका आतंकियों ने अपहरण कर लिया और फिर उनका मृत शरीर पुलवामा में मिला। इस बहादुर जवान को मेरी श्रद्धांजलि।’ कैफ के इस ट्वीट पर कई लोगों ने प्रतिक्रिया दी। सूरज यादव नाम के एक यूजर ने लिखा ‘सर यह कब तक चलेगा? हमारी आर्मी पाकिस्तानी आर्मी से ज्यादा मजबूत है तब ऐसा क्यों?

वहीं औरंगजेब की हत्या से पहले आतंकियों ने राइजिंग कश्मीर के संपादक सुजात बुखारी की भी हत्या कर दी थी। बुखारी लाल चौक के पास प्रेस इन्क्लेव स्थित अपने ऑफिस से इफ्तार पार्टी के लिए निकल रहे थे। तभी बाइक सवार 4 आतंकियों ने उन्हे घेरकर गोलियों से छल्ली कर दिया। बुखारी के हत्या पर केन्द्रीय सूचना मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने दुख जताते हुए कहा कि बुखारी की हत्या प्रेस की आजादी पर क्रूर प्रहार है। वहीं गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि बुखारी पर हमला कश्मीर की आवाज दबाने की कोशिश है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Updates |