राज्यसभा के उपसभापति के लिए हुए चुनाव में ‘हरि’ से जीते ‘हरि’

श्रीकृष्ण, नई दिल्ली ।। राज्यसभा में उपसभापति के लिए हुए चुनाव में बीजेपी ने दिखा दिया कि लोकसभा चुनावों के नतीजे जो भी हों, लेकिन अभी भी डंका तो बीजेपी का ही बज रहा है। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि एनडीए के हरिवंश सिंह ने राज्यसभा के उपसभापति के लिए हुए चुनाव में बड़ी जीत दर्ज की है। वहीं, राज्यसभा के इस चुनाव में यूपीए के उम्मीदवार हरिप्रसाद को भारी हार का सामना करना पड़ा है।

बता दें कि चुनाव में एनडीए के उम्मीदवार को बीजेपी, टीआरए और शिवसेना का भी समर्थन मिला था। वहीं दूसरी तरफ वाईएसआर कांग्रेस, आप और पीडीपी ने वोटिंग से बहिष्कार कर दिया था। जिसके बाद बहुमत का आंकड़ा घटकर 119 हो गया था।

यूपीए की इस हार से विपक्ष में आ सकती है दरार

राज्यसभा में हुए उपसभापति के इस चुनाव में एनडीए का पलड़ा पहले से ही भारी बताया जा रहा था। क्योंकि जीत के लिए 118 वोट चाहिए थें। एनडीए के उम्मीदवार हरिवंश लगातार चुनाव में आगे बढ़ रहे थे। जिसके बाद उन्हे 125 वोट मिले वहीं कांग्रेस उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद के समर्थम में 105 वोट डाले गए।

हालांकि राज्यसभा के इस चुनाव को विपक्षी एकता के तौर पर देखा जा रहा था। लेकिन जिस तरह जनता दल, शिवसेना और बीजू जनता दल ने एनडीए के पक्ष में समर्थन किया उससे एनडीए का पलड़ा ज्यादा भारी हो गया। वहीं, जिस तरह अन्य पार्टियां राज्यसभा में एनडीए का साथ देती हुए नजर आई है उससे लगता है कि विपक्ष में इस बात को लेकर दरार भी आ सकती है।

राज्यसभा के उपसभापति बनने पर हरिवंश को दी गई बधाई

एनडीए उम्मीदवार के तौर पर खड़े हुए हरिवंश प्रसाद ने राज्यसभा के इस चुनाव में 125 वोट लेकर अपनी जीत दर्ज की है। बता दें कि जीत के बाद उन्हें काफी लोगों ने बधाई भी दी। हरिवंश प्रसाद को बधाई देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोंदी ने कहा कि हरिवंश सिंह ने पत्रकारिता के क्षेत्र में लम्बे समय से अपना योगदान दिया है। वह बहुत अच्छे लेखक भी रहे हैं। प्रधानमंत्री के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी राज्यसभा के उपसभापति बनने पर हरिवंश को ट्वीटर पर बधाई दी।

बताया जा रहा है कि हरिवंश नीतीश कुमार के सहयोगी माने जाते है। क्योंकि नीतिश कुमार ने राष्ट्र समिति के प्रमुख के.चंद्रशेखर राव से हरिवंश के लिए समर्थन मांगा था। इसी के साथ बिहार के सीएम नीतीश की अच्छी छवि बनाने में हरिवंश का काफी सहयोग भी रहा है। हालांकि हरिवंश सिंह की अच्छी छवि से बीजेपी को किसी भी पार्टी से कभी विरोध का सामना नहीं करना पड़ा।

कौन हैं पत्रकारिता में लंबे समय से काम करने वाले हरिवंश प्रसाद ?

हरिवंश प्रसाद सिंह उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के रहने वाले हैं। उनका जन्म 30 जून 1956 को हुआ था। उन्होंने बनारस हिंदू विश्वविद्याल से अर्थशास्त्र में एमए और पत्रकारिता से अपनी पढ़ाई पूरी की है। बता दें कि हरिवंश लम्बे समय से प्रभात खबर के संपादक रहे हैं। उन्होंने रविवार और धर्मगुरू जैसी जानी-मानी पत्रिकाओं में भी काम किया है।

पत्रकारिता में काम करते हुए हरिवंश सिंह बिहार के बड़े मीडिया समूह से भी जुड़े। उन्होंने प्रभात खबर में रहने के दौरान गंभीर विषयों पर लिखकर बिहार की कमजोर स्थिति को सबके सामने रखने की कोशिश भी की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Updates |