प्यार, प्रेरणा और दिलों में एक कमी छोड़ गए अटल

प्रिया राणा, न्यूज़ डेस्क || भारत के 10वें और भारतीय जनता पार्टी से पहले प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया। पूर्व प्रधानमंत्री की वर्ष 2009 से ही तबीयत खराब चल रही थी। बीते दिनों उनकी तबीयत काफी बिगड़ गई जिसके बाद उन्हें दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती करवाया गया। अपनी उम्र और बीमारी से एक लंबी लड़ाई लड़ने के बाद भी 93 वर्षीय अटल को लाइफ सपोर्ट पर रखा गया था। जिसके बाद उन्होंने 16 अगस्त की शाम में दुनिया को अलविदा कह दिया ।

इस दुखद समाचार से राजनितीक गलियारे में दुखों के बादल उमड़ पडे और सभी ने अपने करूणा भरे शब्दों में वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी ।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि ‘पूर्व प्रधानमंत्री व भारतीय राजनीति के महान विभूति श्री अटल बिहारी वाजपेयी के देहावसान से मुझे बहुत दुख हुआ है। विलक्षण नेतृत्व, दूरदर्शिता व अद्भत भाषण उन्हें एक विशाल व्यक्तित्व प्रदान करते हैं। उनका विराट व स्नेहिल व्यक्तिव हमारी स्मृतियों में बसा रहेगा।‘

उपराष्ट्रपति ने कहा कि  ‘परम पूज्य अटल जी के देहांत से शोकाकुल हूँ। अटल जी प्रधानमंत्री ही नहीं बल्कि हमारी पीढ़ी के प्रेरणा श्रोत रहे। प्रेरक गुरू का अभाव देश के असंख्य नागरिकों के साथ मैं स्वयं महसूस कर रहा हूँ। राजनीति के अजातशत्रु के बाद राजनीति का स्वर्णिम अध्याय समाप्त हुआ।‘

प्रधामंत्री नरेंद्र मोदी ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि ‘अटल जी हम सभी के प्रेरणा स्रोत रहे । उनका निधन एक युग का अंत है। उनका जाना मेरे लिए एक ऐसी कमी है, जो कभी भर नहीं पाएगी। अटल जी का निधन पिता के खोने जैसा है। भारत ने अपना अटल रत्न खोया। अटल जी की वाणी, उनका जीवन, उनकी सादगी और उनके दर्शन हम समस्त भारतवासियों को प्रेरणा देते रहेंगे।‘

राहुल गाँधी ने कहा कि ‘आज भारत ने अपना महान बेटा खोया है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी को लाखों लोगों ने प्यार और सम्मान दिया था। उनके परिवार और चाहने वालों को मेरी सहानुभूति। हम सभी उन्हें याद करेंगे।‘

Bjp अध्यक्ष अमित शाह ने ट्वीट कर कहा, ‘अटल जी के विचार, उनकी कविताएं दूरदर्शिता और उनकी राजनीतिक कुशलता सदैव हम सबको प्रेरित व मार्गदर्शित करती रहेंगी। भारतीय राजनीति के ऐसे शिखर पुरूष को मैं कोटि-कोटि नमन करता हूँ और ईश्वर से उनकी दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करता हूँ।‘ इसके अलावा अमित शाह ने अटल जी को याद करते हुए उन्हीं की एक कविता भी लिखी।

ठन गई

मौत से ठन गई

जूझने का मेरा इरादा न था

मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था

रास्ता रोक वह खड़ी हो गई

मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं

ज़िंदगी सिलसिला, आज कल की नहीं

मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूँ

लौटकर आऊंगा, कूच से क्यों डरूँ?

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ‘पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के निधन पर गहरा दुख हुआ। भारतीय राजनीति के शलाका पुरूष व पूर्व प्रधानमंत्री श्रद्वेय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी का निधन भारत की राजनीति के महायुग का अवसान है।‘

यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कहा, ‘एक महान जीवन का अंत। लेकिन एक प्रेरणा जो सदा जीवित रहेगी। अटल जी को हमारी भावपूर्ण श्रद्धांजलि!’

Bjp के सीनियर लीडर एल.के. आडवाणी ने कहा कि ‘आज मेरे गहरे दुख और शोक को व्यक्त करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं। आज हम सभी शोक में हैं क्योंकि, एक महान व्यक्ति अटल बिहारी वाजपेयी जी हमसे दूर हो गए। मेरे लिए अटल जी न केवल मेरे वरिष्ठ सहकर्मी थे बल्कि 65 वर्षों से मेरे करीबी मित्र भी थे।‘

योग गुरु स्वामी रामदेव ने अटल बिहारी के निधन पर कहा कि ‘वाजपेयी जी एक कालजयी, अजातशत्रु, दूरद्रष्टा, सर्व समावेशि, अप्रतिम प्रधानमंत्री थे l उनको मैंने योग भी सिखाया और उनसे बहुत कुछ सीखा भी। उनका महाप्रयाण एक युग के अंत जैसे है।’

राजस्थान की सीएम वसुंधरा राजे ने कहा कि ‘पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी का निधन देश के लिए अपूरणीय क्षति है। यह मेरे लिए व्यक्तिग दुख की घड़ी है। जिसे शब्दों में बयां कर पाना संभव नहीं। अटल जी मेरे लिए पिता तुल्य थे। मुझे उनका सन्निध्य मिला ये मेरा सौभाग्य है।‘

अभिनेता रजनीकांत ने कहा, ‘मैं महान् व्यक्ति अटल बिहारी वाजपेयी जी के देहावसान से दुखी हूँ। उनकी आत्मा को शांति मिले।‘

स्मृति ईरानी ने कहा, ‘काल के कपाल पर लिखा-मिटाया भी, गीत नया गाया भी। कितने कार्यकर्ता ऐसे हैं जिनको प्रेम दिया; कितने इतिहास के पन्ने हैं जिनपर नाम है उनका। अटल जी अमर हैं।‘

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Updates |