80 पद, 8000 उम्मीदवार और सारे फेल

पूजा सिंह, नई दिल्ली ।। आपने सरकारी नौकरियों की परीक्षा में देरी, पर्चा लीक, और धांधली जैसी बहुत सी खबरे सुनी होगीं । पर क्या आपने कभी ऐसा सुना है कि एक एग्जाम में बैठे हजारों परीक्षार्थी एक साथ फैल हो गए हों। या कोई एक बच्चा भी न्यूतम अंक के पास ना पहुंचा हो । जी हां, ये कोई बनावटी बात नही हकीकत है ।

ये मामला गोवा का है जहां अकांउटेट भर्ती के लिए कपंटीशन एग्जाम हुआ। इस पेपर में बच्चो ने अनोखा रिकोर्ड बनाते हुए अपनी पढ़ाई का अलग ही नमूना दिखाया। इस परीक्षा में पास होने के लिए जितने क्वालिफिकेशन नंबरो की जरुरत थी, उस नंबर की सीढ़ी तक कोई भी परीक्षार्थी पहुंच ही नही पाया ।

पूरा मामला यह है कि गोवा सरकार ने अकांउटेट के 80 पदों के लिए भर्तियां निकाली थी। अकांउटेट भर्ती एग्जाम में उम्मीदवारो की संख्या तीन या चार सौ नहीं बल्कि हजारो के तादात में थी। बताया जा रहा है कि करीब 8000 उम्मीदवारों ने अकाउंटेट पद के लिए परीक्षा दी थी । ये परीक्षा इसी साल सात जनवरी को आयोजित हुई थी । मंगलवार को गोवा के लेखा निदेशक ने इस प्रारंभिक परीक्षा में किसी भी उम्मीदवार के पास ना होने की जानकारी दी।

किसी भी परीक्षा में एक साथ इतने सारे लोगो का फैल हो जाना अपने आप में एक हैरान कर देने वाला वाक्या है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या परीक्षा में मौजूद उम्मीदवारों में से किसी का भी शिक्षा इस स्तर पर नहीं हो पाया है कि वो परीक्षा पास कर सके ? या वजह ही कुछ और थी?

बता दें सभी स्नातक उम्मीदवारों को इस परीक्षा को पास करने के लिए 100 में से कम से कम 50 अंक लाने की जरूरत थी, लेकिन कोई भी उम्मीदवार इतने अंक लाने में सफल नहीं हो पाया । 100 अंकों वाली इस परीक्षा में सामान्य ज्ञान, अंग्रेजी और अकाउंट से संबंधित सवाल पूछे गए थे।

इस मामले में आम आदमी पार्टी के प्रदेश महासचिव प्रदीप पदगांवडकर ने निंदा करते हुए कहा कि गोवा विश्वविद्यालय और वाणिज्य कॉलेजों को शर्म आनी चाहिए। आपके कॉलेज का शिक्षा का स्तर इतना गिर गया है कि आपके कॉलेज से ऐसे स्नातक पास होकर निकल रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Updates |