सुसाशन बाबू के शासन पर भीड़तंत्र ने खड़े किए सवाल

श्री कृष्ण, नई दिल्ली ।। लोकतंत्र पर भीड़तंत्र आज किस तरह से हावी हो रहा है यह बताने की जरूरत नहीं है। भीड़ अफवाहों में आकर लोगों को बिना सोचे समझे मारे जा रही है। हालांकि, जनता यह भी देखने और समझने की कोशिश नहीं करती कि जिसे वो पीट रही है आखिर उसकी गलती है भी या नहीं ? भीड़ में कानून का डर आज बिल्कुल खत्म हो चुका है। बिहार के सीतामढ़ी से भी एक इसी तरह की दिल दहला देने वाली खबर सामने आयी है जहां भीड़ ने एक व्यक्ति की पीट पीटकर हत्या कर दी।

मां की बरसी के लिए सामान लेने जा रहा था युवक

जिस व्यक्ति की भीड़ ने पीट पीटकर हत्या की है उसका नाम रूपेश कुमार झा बताया जा रहा है। युवक सहियारा थाना क्षेत्र के सिंगहरीया गांव का रहने वाला है। रूपेश के चाचा सुनील कुमार ने बताया कि रूपेश की माता की कल बरसी है। इसलिए वह अपने दोस्त के साथ कुछ सामान लेने सीतामढ़ी जा रहा था। अचानक, रास्ते में जाते वक्त पिकअप वाले से साइड को लेकर छोटा सा विवाद हो गया। लेकिन जब विवाद थोड़ा सा ज्यादा बढ़ा तो पिकअप वाले ने वहीं पर शोर मचाना शुरू कर दिया। विवाद को बढ़ता देख वहां पर ज्यादा भीड़ जमा हो गई।

उधर गांव वालों ने सफाई देते हुए कहा कि युवक पिकअप में कुछ अवैध तरीके का सामान ले जा रहा था। जिस वजह से पिकअप चालक ने शोर मचाया और भीड़ ने बिना कुछ देखें युवक की हत्या कर दी।

कुछ समय के बाद भीड़ ने युवक को पकड़ा और बिना सोचे समझे उसे मारना शूरू कर दिया। इतना ही नहीं कुछ लोग लाठी और डंडे लेकर वहां पहुंच गए और रूपेश को बेरहमी से पीटन शुरू कर दिया। रूपेश बहुत चिखता-चिल्लाता रहा लेकिन भीड़ ने उसकी एक नहीं सुनी। भीड़ लगातार युवक को डंड़ों से मारती रही।

हालांकि मौके पर पुहंची रीगा पुलिस ने युवक को सदर अस्पताल भेज दिया था, लेकिन युवक की गंभीर स्थिति देखकर परिवार वाले उसे अच्छे डॉक्टर के पास लेकर गए। डॉक्टरों ने युवक के हालातों को देखते हुए उसे पी.एम.सी.एच रेफर किया। जहां युवक ने करीब 11 बजे दम तोड़ दिया।

वहीं, पुसिल वालों ने एफआएआर दर्ज करने के लिए परिजनों से एक पत्र भी लिखवाया लिया था। लेकिन परिवार वालों ने कहा कि हमें सिर्फ इंसाफ चाहिए। परिवार वालों ने बताया कि जब तक पुलिस मौके पर पहुंचती तब तक रूपेश के शव को मुखाग्नि दी जा चुकी थी। जिसकी वजह से शव का पोस्टमार्टम भी नहीं हो सका। अभी तक पुलिस ने इस मामले में 150 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

सुशासन बाबू पर भी परिजनों ने उठाये सवाल

बिहार में भीड़तंत्र द्वारा पीट-पीटकर लोगों को मारने की यह पहली घटना नहीं है। हालांकि पहले भी इस तरह की कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं। बिहार में रूपेश की हत्या पर सुशासन बाबू फिर से सवालों के घेरे में आ गए हैं। युवक के परिवार वालों ने अपनी नाराजगी जताते हुए सुशासन बाबू पर निशाना भी साधा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Updates |