यूपी में जा रही बच्चों की जान, लेकिन मौन बैठी है प्रदेश सरकार

श्री कृष्ण, नई दिल्ली ।। लोकतंत्र में जनता वोट देकर एक नया प्रितिनिधित्व इसलिए चुनती है क्योंकि वह उम्मीद करती है कि पहले की सरकार के मुक़ाबले आने वाली सरकार उनके हित के लिए अच्छा काम करेगी। लेकिन सत्ता में आने के बाद सरकार किस तरह की राजनीति करती है, यह किसी से छिपा नहीं है। योगी राज में लगातार मासूम बच्चों की मौत हो रही है। पिछले साल गोरखपुर के मेडिकल कॉलेज में करीब 63 बच्चों की मौतें हुई थी। वहीं, अब उत्तर प्रदेश के बहराइच में लगातार 71 मासूमों की मौत हो चुकी है, लेकिन इस विषय पर सरकार का कोई बयान अभी तक सामने नहीं आया है।

बहराइच में मासूमों की मौत का सिलसिला जारी

उत्तर प्रदेश में बीते 45 दिनों के अंदर 71 मासूमों की बीमारी की वजह से मौत हो चुकी है और बहराइच में यह सिलसिला लगातार अब भी जारी है। मेडिकल सुपरिटेंडेंट ने बताया कि ‘कई अन्य बीमारियों की वजह से बच्चों की मौतें हो रही हैं। हमारे पास 250 बेड उपलब्ध हैं लेकिन अस्पताल में मरीज काफी संख्या में मौजूद हैं’। सूत्रों के मुताबिक इस बीमारी का शिकार सबसे ज्यादा मासूम बच्चे ही हो रहे हैं। बुखार जैसी बीमारी के ज्यादा बढ़ने से मरीजों की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही है।

बहराइच के अलावा अन्य जगहों पर भी हो रही है मासूमों की मौत

आपको बता दें कि यह सिलसिला सिर्फ बहराइच में ही नहीं बल्कि यूपी के दूसरे क्षेत्रों में भी जारी है। उत्तर प्रदेश में डेढ़ महीने के दौरान अज्ञात बुखार की वजह से 79 लोगों की जान जा चुकी है। बता दें कि बरेली में सबसे ज्यादा मौतें हुई हैं, वहीं बदायूं में 13, हरदोई में 12, सीतापुर में 8, बहराइच में 6 और शाहजहांपुर में दो लोगों की मौतें हो चुकी है। हालातों को गंभीर होता देख प्रदेश सरकार ने जिला स्तरीय टीम को भी निगरानी के सन्देश दे दिए हैं। लेकिन बताया जा रहा है कि 24 घंटो के दौरान 5 बच्चों ने बीमारी की वजह से अपना दम तोड़ दिया।

योगी राज में ही क्यों दिख रही है सरकार की लापरवाही ?

हालांकि, समझ में यह नहीं आ रहा है कि योगी राज में ही सरकार की इतनी बड़ी लापरवाही कैसे दिख रही है ? क्योंकि पिछले साल भी गोरखपुर में ऑक्सीजन ना मिलने की वजह से कई बच्चों की जान चली गयी थी, और अब 45 दिनों में ही 71 से अधिक मासूमों की मौत हो चुकी है। अगर, अस्पतालों में मरीजों के लिए बेड या दूसरी स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध नहीं है तो सरकार का सबसे पहला दायित्व है अस्पताल में सारी सुविधाएं उपलब्ध करावाना, जिससे लोगों की जान बचाई जा सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Updates |