राष्ट्र को एकता सूत्र में पिरोने के लिए कल से शुरू होगा ‘कौमी सप्ताह’

उपासना, न्यूज डेस्क।। भारत अनेकता में एकता का एक सबसे बेहतर उदाहरण है। भारत एक संपूर्ण प्रभुत्वसंपन्न समाजवादी पंथनिरपेक्ष लोकतंत्रात्मक गणराज्य जहां 22 धर्म, 66 भाषायें, अनेकों जनजातियां व बोलियों के बीच भी लोग भाईचारे के सूत्र में बंधकर रहते हैं। एकता का यही सूत्र कौमी एकता कहलाता है। हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी कौमी एकता सप्ताह मनाने की पहल शुरु हो चुकी है।

कौमी एकता सप्ताह देश की विविधता को सबके साथ मिलकर मनाने का पर्व है। यह हर साल 19 – 25 नवंबर तक आयोजित किया जाता है। साम्प्रदायिक सद्भावना और राष्ट्रीय एकता को समर्पित इस पर्व का आयोजन भारत सरकार के गृह मंत्रालय द्वारा किया जाता है।

रविवार 18 नवंबर को गृह मंत्रालय ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए इस वर्ष भी कौमी सप्ताह की सूचना दी है। गृह मंत्रालय द्वारा जारी की गयी विज्ञप्ति के अनुसार दिनांक 19 नवंबर से लेकर 25 नवंबर तक राष्ट्रीय एकता, अल्पसंख्यक कल्याण, पर्यावरण संरक्षण, सरकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार आदि जैसे कई मुद्दों पर संगोष्ठी, बैठक, सेमिनार, सांस्कृतिक कार्यक्रम आदि आयोजित किये जायेंगे।

इन कार्यक्रमों को मनाने का मुख्य उद्देश्य सांप्रदायिक सद्भाव, सहिष्णुता और भाईचारे की भावना को बढाना है। जिससे देश अपनी विविधता को साथ लेकर चलते हुए उन्नति की ओर बढ़ सके। भारत जैसे देश में कौमी एकता सप्ताह जैसे आयोजन विभिन्न वर्गों को एक सूत्र में पिरोने का काम करते हैं। ऐसे आयोजन समाज में एकता और सद्भावना के साथ देश की अखंडता को और मजबूत करने में सहायक होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Updates |