अंतराष्ट्रीय प्रेस स्वतंत्रता दिवस: पत्रकारिता के लिए 2 मिनट के मौन की जरुरत

सुना है लिखते नहीं हो आजकल मेरी कलम में स्याही नहीं, खून भरा है लिख दिया, तो खून हो जाएगा….

Read more

महिला पत्रकार के साथ बदसलूकी, एकजुट पत्रकारों ने PHQ के सामने किया प्रदर्शन

न्यूज डेस्क, नई दिल्ली || भारत जैसे लोकतान्त्रिक देश में मीडिया को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ माना जाता है। लेकिन

Read more
Latest Updates |